कामुकी अम्मा का शरारती लड़का-HINDI XXX KAHANI

Table of Contents

कामुकी अम्मा का शरारती लड़का-HINDI XXX KAHANI

नमस्कार, मेरा नाम राजीब है, मैं अभी ऑनर्स फाइनल ईयर की पढ़ाई कर रहा हूं, हमारे परिवार में 3 सदस्य हैं, मां शिल्पा रानी गृहिणी हैं।
पिता सुनील दास विदेश में रहते हैं और 4 साल बाद घर आते हैं
मेरे पिता 49 साल के हैं
और मेरी माँ 42 साल की है। मेरी माँ बहुत आधुनिक किस्म की महिला है। सारा दिन वह अपनी बॉडी एक्सरसाइज और पार्टियों में व्यस्त रहती है और जब वह खाली होती है तो मेरे साथ समय बिताती है।
अब आते हैं मुख्य कार्यक्रम पर
मुझे माँ की लत लग गयी है या मैं दसवीं कक्षा से ही माँ को चोदने के बारे में सोचता रहता हूँ
मैं यह कह रहा हूं कि मुझे कैसे पता चलेगा जब मुझे पता चलेगा कि मेरी मां के साथ और भी कई लोगों का रिश्ता है
एक दिन जब मैं 10वीं कक्षा में था तो मैंने अपनी मां का फोन नहीं उठाया क्योंकि मेरे फोन में बैटरी नहीं थी।
और (मां फोन थोड़ा दूर रखती थीं, वो ऐसा क्यों करती थीं, ये मुझे बाद में समझ आया)
फिर जब मैंने कॉल नहीं किया तो मुझे अपने फोन पर व्हाट्स ऐप का मैसेज दिख रहा था
“शिल्पा, तुम्हारा कूल्हे मटकाने का शौक ख़त्म हो गया है!”
ये देखते ही मेरा सिर घूमने लगा!!
मैं थोड़ी देर के लिए स्तब्ध रह गया और फिर मैं अपना फोन देखने के लिए व्हाट्स ऐप पर गया
मैंने जो देखा, मैं लगभग दंग रह गया
“शिल्पा, तुम्हें चोदने में मुझे सबसे अच्छा समय लगा, मैं इसे जीवन भर तुम्हारी चूत में रखना चाहता हूँ।”
इसमें मां की पुनरावृत्ति है
“बेशक प्रिये, तुम्हारे साथ खेलने के लिए मेरी चूत हमेशा रहेगी। जब समय आये तो मुझे चाटना और अपना लंड मेरी चूत में डालना और जितना चाहो चोदना, प्रिये।”
ऐसे मैसेज देखने के बाद मुझे यकीन ही नहीं हुआ कि मेरी मां इतनी जादूगरी किस्म की औरत है
फिर मैंने देखा कि कई लोगों के पास ऐसे मैसेज थे (इसलिए मां अपना फोन मुझसे दूर रखती थीं)।
पहले तो माँ के प्रति बहुत नफरत हुई, फिर जब उसे माँ की छवि याद आई तो उसके चेहरे पर न जाने एक शैतानी मुस्कान आ गई।
तभी माँ वॉशरूम से बाहर आईं और उन्होंने अपना फोन मेरे हाथ में देखा
माँ: तुम फ़ोन पर क्या देख रहे थे?
मैं अचानक चौंक गया
मैं: नहीं नहीं माँ कुछ नहीं बस अपने दोस्त राहुल को बुलाने ले गया
माँ: क्यों प्रिये, तुम्हारे फोन को क्या हुआ?
मैं: माँ, मेरा बैले ख़त्म हो गया है
माँ: अच्छा, क्या तुमने फोन पर कुछ देखा? (मैगी मार्का मुस्कुराते हुए)
मैं इस सवाल से अचानक चौंक गया
मैं: नहीं माँ कुछ नहीं है
माँ मेरे पास आईं और अपना हाथ मेरे गाल पर रख दिया
माँ: सोना इतनी हैरान क्यों है? (कामुक मुस्कान के साथ)
मैं: नहीं माँ, कुछ नहीं
माँ: ठीक है मैं कपड़े बदल लेती हूँ अभी जाओ
फिर मैंने अपनी माँ को अच्छी तरह से देखा
बस दूध से लेकर घुटनों तक तौलिए से ढक लें
बड़े बड़े दूध देख कर मेरी आँखों की पुतलियाँ बड़ी हो गयीं, मेरा लंड लम्बा बांस बन गया
माँ की बातों पर अचानक सहमति लौट आई
माँ: किरे सोना की सी ऐसी (कामुक लग रही है)
मैं: नहीं माँ ऐसा कुछ नहीं है
माँ मेरे सामने आईं और मेरे गाल पर चूम लिया
माँ: तो फिर मैं कपड़े पढ़ूंगी
मैं: अच्छा, मैं बाहर चला गया
लेकिन जब मैं दरवाजे के पास पहुंचा तो मेरे पैर ठिठक गए, फिर मैं चुपचाप कमरे के अंदर देखने गया तो मैंने जो देखा तो मेरी आंखें घूम गईं।
मैंने देखा कि माँ ने एक ही बार में तौलिया खींचकर हटा दिया और तौलिया पूरा लम्बा था, फिर वह अपने पूरे शरीर को इधर-उधर देखने लगी, माँ बहुत सेक्सी लग रही थी।
स्थिति यह थी कि मेरी बड़ी पैंट अंदर से फट गई थी, तभी मैंने देखा कि मां अपने हाथ में लोशन लिए दूध के बीच में ही उसे अपनी गांड में लगाने लगी, मैं शांत हो गया
तब से मैंने पूरी प्रोन स्टार एवा एडम्स की तरह अपनी माँ (मेरे शरीर का आकार 38-36-38 है) पर नज़र रखना शुरू कर दिया, माँ जब भी मुझसे मिलती थी तो मुझे गले लगा लेती थी।
उस सुबह माँ ने योगा किया, मैं खड़ा होकर माँ को केवल ब्रा और पैंटी पहने हुए देख रहा था, हमेशा ब्रा और पैंटी में ही योगा कर रही थी, लेकिन सब कुछ जानने के बाद माँ के प्रति मेरी बुरी नज़र अपने आप गायब हो गई।

अचानक मां की नजर मेरी तरफ पड़ी और उन्होंने मुझे बुलाया
माँ: प्रिये इधर आओ
मैं: हाँ माँ बताओ
माँ : मेरी गांड को थोड़ा ज़ोर से पकड़ो
यह बादलों के बिना पानी की तरह है
मैं: ठीक है माँ लेकिन क्यों?
माँ: मैं नुई में एक योग आसन करूंगी
मैं: ठीक है ऐसा करो
माँ: मैं इसे कसकर पकड़ लूंगी
मैं ठीक हूं
फिर माँ ने अपना सिर नीचे किया और अपनी गांड को मेरे करीब कर दिया, इस बीच मेरा लंड पूरी तरह से बम्बू हो गया था, मेरे लंड का मेरे कूल्हों से 2 इंच का अंतर था लेकिन माँ ने जो कहा उससे मेरी नज़र मेरे माथे तक चली गयी।
माँ: सोने को अपनी कमर से कस कर पकड़ लो
फिर मैंने अपने लंड को माँ की गांड पर बहुत ज़ोर से दबाया
माँ ने थोड़ा शोर मचाया
माँ : आह्ह्ह्ह क्या दमदार पापा है
मैं चौंक गया
मैं: कैसा सख्त माँ?
माँ: कुछ नहीं, रुको प्रिय, मैं योगा कर रही हूँ
फिर मैंने अपने लंड को अपने कूल्हों से मजबूती से पकड़ लिया
अगर यह मेरी टाउज़र और माँ की पैंटी नहीं होती, तो मुझे यकीन है कि मेरा लंड मेरी गांड में धँस गया होता।
कुछ देर तक ऐसे ही योग करने के बाद
माँ: जानू, अब तुम सो जाओ
मैं: क्यों माँ
माँ: ओह, मैं जो कहती हूँ वह मत करो, मैंने कुछ नए योग आसन सीखे हैं और सोने के बाद उनका अभ्यास करूंगी प्रिये
मैं: ठीक है माँ
फिर माँ मेरे ऊपर बैठ गईं और अपने हाथ मेरे कंधों के दोनों तरफ रख दिए और मेरी कमर को हिलाने लगीं.
मैं चाहता था कि टौसर उतार कर अपना लंड मेरी चूत में पेल दूँ, मैं राहत बर्दाश्त नहीं कर सका और उसके मुंह से आह निकल गई।
माँ : तुम्हे दर्द क्यों हो रहा है?
मैं: मैं आहह नहीं माँ मुझे बहुत आराम मिल रहा है (मुंह से बाहर निकल जाता है)
माँ: तो प्रिये?
मैं: हम्म्म
माँ: क्या तुम हर रोज मेरी इसी तरह मदद कर सकती हो प्रिये?
मैं: हाँ माँ जब भी आपको जरूरत हो मुझे बुला लेना
माँ: ठीक है प्रिये
फिर माँ ऐसे ही अपनी कमर हिला रही थी, अचानक कुछ हुआ, मेरी आँखें बंद हो गईं, मैं और बर्दाश्त नहीं कर सका और माल बाहर आ गया।
मैंने अपनी पैंटी की तरफ देखा तो पाया कि मेरी पैंटी भी गीली हो चुकी थी, तभी माँ मेरे ऊपर लेट गयी
माँ का दूध मेरी छाती पर दब गया, मुझे जो राहत मिली, मैं बयान नहीं कर सकता
माँ: आह्ह्ह्ह प्रिये, आज योग करने से मुझे बहुत आराम मिला
मैं: माँ जब भी तुम्हें मेरी जरूरत हो तो मुझे बुला लेना, मैं तैयार हूँ
माँ: हाँ, मैंने वह दुष्ट (मुस्कुराते हुए मैगी मार्का) देखा।
मैं: क्या देखती हो माँ?

Table of Contents

🫦मैं पड़ोस वाली आंटी की चुदाई वाला दिन भूल सकता हूँ🫦HINDI XXX KAHANI

🫦HINDI XXX KAHANI – ब्लैकमेल🫦

🫦BAAP BETI -मेरे पिता – HINDI XXX KAHANI🫦

🫦नौकरानी के पेट में मेरा बच्चा – HINDI XXX KAHANI🫦

Leave a Comment